Corona Warrior Trending

सरकारी हेल्पलाइन दिल्ली की झुग्गी बस्तियों को सैनेटाईज़ करायेगी

नई दिल्ली, 17 मई 2021, देश की जानी-मानी टेलीफोन डायरेक्टरी वेबसाइट सरकारी हेल्पलाइन डॉट कॉम(Sarkarihelpline.com) ने कोरोना संक्रमण को देखते हुए एक और कदम बढ़ाते हुए दिल्ली की झुग्गी बस्तियों में सैनेटाईजेशन कराने का निर्णय लिया है. इससे पहले दिल्लीवासियों के कोरोना सम्बंधित टेस्ट के लिए होम कलेक्शन हेतु मदद बढ़ाते हुए लोगों की मदद कर रही थी और जरुरतमंदों को राशन भी पहुँचा रही थी.

सरकारी हेल्पलाइन के निदेशक वैभव मिश्रा ने बताया कि “इस महा संक्रमण काल में सब एक दूसरे की मदद कर रहे हैं, लेकिन इस बार की स्थिति पहले से कहीं ज्यादा भयावह है. इस स्थिति से निपटने का एक मात्र उपाय संक्रमण रोकना ही है, इसलिए हमने यह निर्णय लिया है कि दिल्ली की सभी झुग्गी बस्तियों और क्लस्टर में सैनेटाईजेशन करायेंगे जिससे वहां पर संक्रमण को रोकने में कुछ हद तक मदद जरुर मिलेगी. कई संस्थायें हैं जो राशन और अन्य आवश्यक सामग्री इन गरीब लोगों तक पहुँचा रही हैं परन्तु साफ़-सफाई जैसी आधारभूत समस्याओं को नजरंदाज़ किया जाता है. कोरोना संक्रमण को रोकने में अब तक सबसे बड़ा हथियार साफ़-सफाई और उचित दूरी ही है. यह वह वर्ग है जिसके बारे में सबसे कम सोचा जाता है और सुविधाओं से भी वंचित रखा जाता है.

वैभव मिश्रा ने आगे कहा कि इस योजना को क्रियान्वित करने के लिए झुग्गी बस्तियों के प्रधानों एवं क्लस्टर प्रमुख से संपर्क कर उनकी सूची तैयार की जा रही है इसके अतिरक्त विभिन्न राजनैतिक पार्टियों से जुड़े स्थानीय नेताओं का भी सहयोग लिया जा रहा है जिससे कोई भी झुग्गी बस्ती सैनेटाईजेशन से वंचित न रहे. दिल्ली में 650 से अधिक झुग्गी बस्ती क्लस्टर है जिसमे 2 लाख से ज्यादा परिवार रहते हैं. मैं आशा करता हूँ कि अगले 2 महीने के भीतर लगभग सभी चिन्हित स्थानों को सैनेटाईज कर दिया जायेगा. इस कार्य का पूर्ण व्यय सरकारी हेल्पलाइन उठाएगा.    

सरकारी हेल्पलाइन(Sarkarihelpline.com) के बारे में, सरकारी हेल्पलाइन एक ऐसी कंपनी है जो कि देश के सभी सरकारी विभागों एवं जनप्रतिनिधियों के टेलीफोन नंबर निःशुल्क मुहैया कराती है. जिसका एक मात्र उद्देश्य आम जनता को घर बैठे उचित जानकारी मिल सके और इस महामारी के दौर में अन्यथा बाहर निकलना पड़े.

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *