Government schemes

कर्मचारियों के लिए सरकार की योजना से होगा मुफ्त इलाज, साथ ही फैमिली पेंशन का भी फायदा

ESIC SCHEME

कर्मचारी राज्‍य बीमा निगम भारतीय कर्मचारियों के लिये बीमा धनराशि का प्रबंधन करता है. जिन लोगों की इनकम कम है और जो सरकारी या निजी क्षेत्र में काम करते हैं, उनके लिए केंद्र सरकार ने राज्य कर्मचारी बीमा योजना बनाई है.

इस योजना के लिए राज्य कर्मचारी बीमा निगम (ESIC) नाम की एक संस्था बनाई गई है जो केंद्रीय श्रम एवं रोजगार मंत्रालय के तहत काम करती है. ESIC सरकारी और निजी क्षेत्र के जिन कर्मचारियों को कम वेतन मिलता है उनके लिए हेल्थ इंश्योरेंस स्कीम चलाती है। इसके अलावा, इसकी स्कीम के तहत पेंशन का लाभ भी लिया जा सकता है।

ESI की योजना उन संस्थाओं में लागू होती है, जहां 10 से 20 कर्मचारी या ज्यादा काम करते हैं. इस योजना का फायदा निजी कंपनियों और फैक्ट्रियों में काम करने वाले लोगों को मिलता है, जिनका मासिक वेतन 21000 रुपए या इससे कम होता है, लेकिन दिव्यांग लोगों के लिए यह सीमा 25000 रुपए है।

सुविधा को पाने के लिए बनाना होता कार्ड

इस सुविधा को पाने के लिए कर्मचारियों को ईएसआई का कार्ड बनवाना पड़ता है। यह कार्ड या कंपनी के दूसरे दस्तावेज दिखा कर कर्मचारी ईएसआईसी की डिस्पेंसरी और अस्पताल में अपना या अपने फैमिली मेंबर्स का इलाज करवा सकते हैं. अगर उनकी बीमारी गंभीर हुई तो ईएसआई के अस्पताल उन्हें दूसरे बड़े अस्पतालों में इलाज के लिए रेफर करते हैं और इलाज का सारा खर्च ईएसआईसी का होता है साथ ही दवाइयों का पैसा नहीं लगता।

मिलने वाला फायदा

बीमारी की वजह से अगर कर्मचारी जॉब नहीं कर सकता तो ऐसी स्थिति में ईएसआईसी कर्मचारी के वेतन का 70 फीसदी भुगतान करता है. अगर कर्मचारी किसी वजह से विकलांग हो जाता है, तो उसे वेतन का 90 फीसदी भुगतान किया जाता है। हमेशा के लिए यदि कोई विकलांग हो जाता तो जीवन भर सैलरी का 90 फीसदी भुगतान मिलता रहता है.  

कर्मचारियों और नियोक्ता का योगदान

ईएसआईसी की सुविधा निर्धारित वेतन की सीमा में सभी कर्मचारियों को दी जाती है. इसमें कर्मचारियों और नियोक्ता, दोनों को योगदान करना पड़ता है। वर्तमान समय के अनुसार कर्मचारी को अपनी सैलरी से 0.75 फीसदी योगदान ईएसआईसी में करना होता है, वहीं नियोक्ता को यह योगदान 3.25 फीसदी करना होता है. लेकिन जिन कर्मचारियों का औसत वेतन रोजाना 176 रुपए है, उन्हें कोई योगदान नहीं करना होता है.

ऐसे कराएं रजिस्ट्रेशन

ईएसआईसी में रजिस्ट्रेशन नियोक्ता द्वारा कराया जाता है। रजिस्ट्रेशन के लिए कर्मचारियों को सिर्फ अपने परिवार के सदस्यों के बारे में कुछ जानकारी देनी होती है। इस योजना में नॉमिनी भी कर्मचारी को तय करना होता है.

जाने पेंशन के नियम

इस योजना के तहत में जिन कर्मचारी का बीमा होता है, उनकी मृत्यु के बाद कर्मचारी पर निर्भर रहने वाले उनके परिवार को पेंशन मिलती है। यह पेंशन आश्रितों को आजीवन मिलती है. पेंशन को भी तीन हिस्से में बांटा जाता है। पहला हिस्सा जिस व्यक्ति का बीमा है उसकी पत्नी को, दूसरा उसके बच्चों को और तीसरा उसके माता-पिता को मिलता है.

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *