Corona Warrior

बिना शोर-शराबे के भी मदद की जा सकती है : सुनील मित्तल

कोरोना महामारी संक्रमण के समय में पूरा देश एकजुट होकर इसके खिलाफ लड़ाई लड़ रहा है, परन्तु कुछ ऐसे भी लोग हैं जो बिना शोर-शराबे के जरुरतमंदों की मदद कर रहे हैं | बात कर रहे हैं दिल्ली के रोहिणी क्षेत्र में रहने वाले सुनील मित्तल जिन्हें पूरे क्षेत्र में सोनू मित्तल के नाम से जाना जाता है, पेशे से व्यवसायी है |

सुनील मित्तल आज कल चर्चा में बने हुए हैं जिसकी वजह है कि वह जब भी किसी कोरोना पीडित की मदद करते हैं तो न ही उसके साथ कोई फोटो खीचते हैं और न ही कोई शोर-शराबा करते हैं, आज के सोशल मीडिया के दौर में कुछ लोग मदद ही इसलिए करने आते हैं जिससे वो लोगों की नजर में बने रहे, इसमें बड़े से बड़े नेता भी अछूते नही रहे हैं |

बता दें कि सुनील मित्तल प्रतिदिन हजारों परिवारों को कच्चा राशन और भोजन के पैकेट वितरित करते हैं, इसके अतिरिक्त अन्य जरुरी वस्तुएं जैसे डॉक्टर्स के लिए ग्लब्स(दस्ताने), सेनेटाईजर इत्यादि भी वितरित कर रहे हैं | अभी तक अनुमानतः 50 हजार से अधिक लोगों की मदद कर चुके हैं |

सरकारी हेल्पलाइन ने सुनील मित्तल से सम्पर्क कर जानने की कोशिश करी कि आखिर वो चुपके से लोगों की मदद क्यों कर रहे हैं, तो इस इसपर सुनील मित्तल ने बताया कि आज कल लोग किसी को भी खाने-पीने का कोई सामान दे रहे हैं तो उसके साथ फोटो लेकर उसका जोर-शोर से प्रचार-प्रसार करने लगते हैं, लेकिन मेरा यह मानना है कि यह बिलकुल ही उचित नही है, लोग यह नही सोचते कि जब वह व्यक्ति स्वयं को किसी सोशल मीडिया प्लेटफार्म या अन्य किसी जगह पर देखता है कि उसने जिससे मदद ली वह सबको बता रहा है तो उसे निश्चित ही बुरा लगता होगा, कोई भी व्यक्ति बिना मज़बूरी के किसी से मदद नही मांगता है तो ऐसे में यह हमारा फ़र्ज़ है कि मदद के नाम पर किसी का मजाक न बनाया जाये | यदि कोई ऐसा करता है तो वह जितनी मदद करता हैं उससे कहीं ज्यादा उसका अपमान कर रहा है | मैं सभी से अपील करता हूँ कि जो लोग भी मदद को आगे आ रहे हैं वह मदद पर अधिक ध्यान दें न कि प्रचार-प्रसार पर |

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *